कंप्यूटर साउंड कार्ड क्या है क्यों यूज़ होता है?

कंप्यूटर साउंड कार्ड क्या है क्यों यूज़ होता है? 
क्या आप जानते हैं की ये Sound Card क्या है? यदि नहीं तब आज का यह article Sound Card क्या होते हैं आपके लिए बहुत ही जानकारी भरा होने वाला है. इसमें आपको Sound Card से सम्बंधित सभी जानकारी मुहया की जाएगी. इससे आपको इसे ठीक रूप से समझने साथ में, ये कैसे काम करता है इत्यादि समझने में आसानी होगी.
कंप्यूटर साउंड कार्ड क्या है क्यों यूज़ होता है?
कंप्यूटर साउंड कार्ड क्या है क्यों यूज़ होता है? 

वैसे तो इसे sound board या sound card भी कहा जाता है. असल में एक sound card एक development card या IC होता है जो की sound पैदा करने में मदद करता है किसी gadget (PC) में और जिसे आसानी से Speaker या Headphones की मदद से सुना का सकता है.

वैसे बिना sound card के भी एक PC ठीक रूप से work कर सकता है, लेकिन यदि आप एक sound card introduce करते हैं तब आपकी gadget की sound quality बहुत हद तक बढ़िया हो जाती है. वहीँ पहले इसे अलग से लगाना पड़ता था वहीँ अभी ये पहले से ही motherboard में या फिर Exapnsion Slot में installed होकर आता है. इसलिए अब हमें इसे अलग से लगाने की कोई भी जरुरत नहीं है.

वैसे अगर आपको Sound Card के प्रकार और वो कैसे काम करते हैं के विषय में और अधिक जानना है तब आपको यह article साउंड कार्ड क्या होता है ठीक तरीके से पढना चाहिए क्यूंकि यहाँ पर मैंने इस gadget के पूरी जानकारी बड़ी ही आसान भाषा में समझाने की कोशिश करी है. उम्मीद है आपको ये जरुर पसंद आएगी और साथ में आपके मन के सभी questions भी दूर हो जाएगी. तो बिना देरी किये चलिए आगे बढ़ते हैं.

Sound Card एक part होता है जो की कंप्यूटर के भीतर स्तिथ होता है. यह PC को sound information और yield capacities प्रदान करता है. ज्यादातर sound cards में कम से कम एक simple line input और एक stereo line yield association तो होता ही है. ये connectors ordinarily 3.5 mm minijacks होते हैं, जो की ज्यादातर earphones के size होते हैं जिन्हें हम इस्तमाल करते हैं.

कुछ sound cards computerized sound info and yield को भी support करते हैं, इसके लिए एक standard TRS (tip-ring-sleeve) association या by means of एक optical sound port के करते हैं, जैसे की Toslink connector.

वैसे तो sound cards के बहुत से प्रकार मेह्जुद हैं, वहीँ कोई type जो produce करती हैं एक simple yield उनमें एक computerized to-simple converter (DAC) होना बहुत ही जरुरी होती है.

ये convert करती हैं active sign को advanced से simple में, जिन्हें की ज्यादातर speaker frameworks से play किया जा सकता है. Sounds cards जो की support करते हैं simple information उन्हें एक simple to-computerized converter (ADC) की भी जरुरत होती है. ये digitizes करती है approaching simple sign को, जिससे की PC उन्हें process कर सके.

जहाँ कुछ PCs में, sound card एक हिस्सा होता है motherboard का वहीँ दुसरे मशीनों में ये असला में एक genuine card होता है जो की PCI opening में स्तिथ होता है.

अगर आपको अपने PC में और ज्यादा sound capacities चाहिए जैसे की extra input और yield channels तब आपको इसके लिए एक नया sound card introduce करना होगा. Expert sound cards ज्यादातर higher inspecting rates (जैसे की 44.1 kHz के स्थान पर 192 kHz) को support करते हैं और इनमें ज्यादा inputs और yields भी होती हैं.

साउंड कार्ड का इतिहास 

पहले ज़माने के PCs में sound cards नहीं होते थे — क्यूंकि उन्हें ज्यादा significant नहीं माना जाता था fundamental assignments के लिए, जिसके लिए PCs को असल में structured किया था. बल्कि उसके स्थान पर पहले के gadgets में essential inward speakers हुआ करते थे जो की square wave sound produce करते हैं.

जैसे PCs ज्यादा complex होने लगे और shopper advertise में आने लगे (1980s) में. तब makers को ये मालूम हुआ की उन्हें PCs में sound पैदा करने के विषय में सोचना चाहिए, वो भी propelled applications और general amusement के लिए.

IBM और दुसरे producers इसपर sound gadget makers के तरफ रुख करने लगे जैसे की Adlib और Creative Labs, जो उस समय में नयी sound card innovation पर काम कर रहे थे और जिससे PCs में हम music, voices आदि को सुनने में सक्षम होने लगे.

Late 1980s तक, markets में ऐसे PCs आने लगे थे जिनमें worked in sound cards हुआ करते थे. शुरुवाती दौर में, ये sound cards ज्यादातर कुछ explicit applications में ही center हुआ करते थे. जो की खासकर music structure, discourse amalgamation के लिए बनाये गए थे.

सबसे पहला Sound Card कौन सा था, किसने बनाया और कहाँ इस्तमाल किया गया था? 

Gooch Synthetic Woodwind को सबसे पहला sound card माना जाता है. इसे PLATO terminals द्वारा इस्तमाल किया गया. वहीँ इसे develop किया था Sherwin Gooch के द्वारा सन 1972 में. यह एक synthesizer था जो की fit था 4-voice music blend करने में.

Macintosh II PC भी competent था module sound cards को इस्तमाल करने में. Apple Music Synthesizer वो पहला module sound card था जिसे की Apple II में इस्तमाल किया गया, इसे ALF Products Inc. ने सन 1978 में create किया था.

AdLib वो पहला organization था जो की IBM PC के लिए sound card produce करता था. AdLib ने create किया Music Synthesizer Card सन 1987 में.

कंप्यूटर साउंड कार्ड कैसे काम करता है? 
एक PC में Audio documents ऐसे होते हैं जैसे की सभी चीज़ों को code के रूप में store किया गया हो. ये advanced data बड़ी ही आसानी से बहुत से sound waveforms को store कर सकती है, लेकिन ये sound नहीं make कर सकती है — इन "simple" waves को air में spread होना पड़ेगा और तभी जाकर ये हमारे कानों में कुछ sway कर सकती है.
ये sound card interpret करती है sound को computerized code से sound waves में जैसे आपको जरूरत होती है.
ऐसा करने के लिए card इस्तमाल करती है एक DAC, या computerized to simple converter. इस converter का काम होता है interpret करना sound record code को electrical driving forces में, जो की travel करती है by means of sound card की associations आपके speakers तक.

फिर ये speaker की drivers उन electrical motivation को बदलत
Previous
Next Post »